अपनी हिम्मत से कठिन दौर से उबर जाएगा ईरान ?

 

तेहरान। ईरान इन दिनों काफी कठिनाइयों का सामना कर रहा है। अपने आपको सभ्य और मजबूत कहने वाले तमाम देशों ने ईरान को अपने हाल पर छोड़ दिया है और अमेरिकी हुक्म के सामने नतमस्तक हैं। सबके अपने-अपने स्वार्थ हैं। कोई न्याय की बात करने की स्थिति में नहीं है। ईरान की सरकार और वहां की जनता कठिनाइयों से संघर्ष कर रही है। ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने उलेमा (धर्मगुरु) के साथ सोमवार देर रात मुलाकात में कहा कि इस्लामी गणराज्य इतना महान है कि इसको कोई धमका नहीं सकता है। सरकारी वेबसाइट दौलत डॉट आईआर के मुताबिक, रूहानी ने कहा, इंशा अल्लाह (ईश्वर की इच्छा से) हम इस कठिन दौर को गौरव के साथ निकाल देंगे और हमारे सिर ऊंचे रहेंगे और दुश्मन को शिकस्त देंगे।
राष्ट्रपति ने रमजान के पवित्र महीने के मौके पर सुन्नी उलेमा से सोमवार देर रात मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने उक्त टिप्पणी की। उनकी यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के तटीय क्षेत्र में रविवार को सऊदी अरब के दो तेल टैंकरों समेत चार पोतों पर कथित हमले के बाद क्षेत्र में तनाव बढ़ गया है। ईरान ने घटना को चिंताजनक बताते हुए इसकी जांच की मांग की है। गौरतलब है कि वैश्विक शक्तियों के साथ 2015 में ऐतिहासिक परमाणु समझौते में निर्धारित वादों से तेहरान के पीछे हटने से अमेरिका और ईरान के बीच हाल के हफ्तों में वाक युद्ध छिड़ गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने पिछले साल इस समझौते से अमेरिका को अलग कर लिया था और ईरान पर फिर से एकतरफा प्रतिबंध लगा दिए थे।

फेसबुक या कहीं भी शेयर करो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp

फेसबुक या कहीं भी शेयर करो