कविता -जमाने को बदलना है – शलभ श्रीराम सिंह/ बहुत गिरा है तू कि अब सम्हलना है ! सम्हलना है …

 

मजूर आ ! किसान आ !
वतन के नवजवान आ !
तुझे सितम की सरहदों के पार अब निकलना है !
य’ राह पुरखतर है पर इसी पे तुझको चलना है !
जमाने को बदलना है !
जमाने को बदलना है !
ये जिनकी साँस-साँस में तड़प रही हैं बिजलियाँ
उन्हीं को मिल रही हैं रोज लाख-लाख धमकियाँ
य’ डर है उनले लब पे भूख का सवाल आए ना
कि उनकी धमनियों में खून का उबाल आए ना
कहीं जबाँ न खोल दें
ये सच कहीं न बोल दें
हुकुमतों की खैर-ख्वाहियत को यों ही पलना है !
य’ राह पुरखतर है पर इसी पे तुझको चलना है !
जमाने को बदलना है !
जमाने को बदलना है !
यहाँ पे मुद्दतों से आदमी ने है अश्क पिया
रहम करेंगे लोग इस उम्मीद पर बहुत जिया
मगर सवाल पेट का बिना जवाब के रहा
किसी ने कुछ नहीं सुना, किसी ने कुछ नहीं कहा
तो उसने सर उठा लिया
नया बिगुल बजा दिया
उसी बिगुल की धुन में तेरे सुर को आज ढलना है !
य’ राह पुरखतर है पर इसी पे तुझको चलना है !
जमाने को बदलना है !
जमाने को बदलना है !
ये आदमी की शक्ल में भटकते लोग कौन हैं ?
कदम-कदम से खौफ से अटकते लोग कौन हैं ?
न जिनके बाग में उम्मीद की कोई कली खिली !
अँधेरा पी के मर गए मगर न रोशनी मिली !
उन्हीं का ख्वाब तू भी है
पसीना और लहू भी है
उन्हीं की यादगार का चिराग बन के जलना है !
य’ राह पुरखतर है पर इसी पे तुझको चलना है !
जमाने को बदलना है !
जमाने को बदलना है !
सुबह की रोशनी से जिसने इनको काट रक्खा है
दिलों की वादियों को साजिशों से बाँट रक्खा है
सड़क पे खींच ला कि अब उसे सबक सिखा दे तू
वतन परस्त ! इंकलाब करके अब दिखा दे तू
य’ सच है इस जनून से
शहीद ! तेरे खून से
समन्दरे-निजाम को उबलना है ! उबलना है !
य’ राह पुरखतर है पर इसी पे तुझको चलना है !
जमाने को बदलना है !
जमाने को बदलना है !
जमीं के पूत से जमीन छीन ली गई यहाँ
जला उसी का घर, पड़ी उसी के पाँव बेड़ियाँ
हुकूक मिल सके नहीं कभी अमन के रास्ते
कभी नहीं रही जमीन कायरों के वास्ते
लहू-लहू के राग में
जवाँ दिलों की आग में
हर इक चटाने-जुल्म को पिघलना है ! पिघलना है !
य’ राह पुरखतर है पर इसी पे तुझको चलना है !
जमाने को बदलना है !
जमाने को बदलना है !
बहे अगर खिलाफ तो हवा का रुख बदल दे तू
जो साँप फन उठाते हैं तो उनका फन कुचल दे तू
जो हाथ तेरे हाथ से जुदा हैं उनको काट दे
जरूरतन जमीं को सरों से दोस्त पाट दे
तुझी को यह भी करना है !
कि खुद ब खुद उबरना है !
बहुत गिरा है तू कि अब सम्हलना है ! सम्हलना है !
य’ राह पुरखतर है पर इसी पे तुझको चलना है !
जमाने को बदलना है !
जमाने को बदलना है !

फेसबुक या कहीं भी शेयर करो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp

फेसबुक या कहीं भी शेयर करो